सूचना

'सर्वहारा' में हिन्दी भाषा और देवनागरी लिपि में साहित्य की किसी भी विधा जैसे- कहानी, निबंध, आलेख, शोधालेख, संस्मरण, आत्मकथ्य, आलोचना, यात्रा-वृत्त, कविता, ग़ज़ल, दोहे, हाइकू इत्यादि का प्रकाशन किया जाता है।

मंगलवार, 29 दिसंबर 2015

15 कहानियों की परख

 धीरेन्द्र अस्थाना (मुंबई)         क्रमांक 3

कहानी - 'उस रात की गंध' 
पाठक संख्या : 20280
धीरेन्द्र आस्थाना की कहानी उस रात की गंधकहानी के स्तर से और कहन के स्तर से पहले की दो कहानियों की परख से कहीं श्रेष्ठ कहानी सिद्ध होती है। कारण इसका यह है कि विषय की दृष्टि से यह कहानी यथार्थ से एक मनोलोक की ओर ले जाती है, साथ ही यह कहानी बाहर से भीतर का प्रवेश कराती है। कहानी कई स्तरों पर फिट बैठती है, चाहे उसमें रूपकों का इस्तेमाल हो, चाहे चित्रात्मकता हो या बिंबों के माध्यम से सजीवता हो। हर प्रकार से कहानी की परख में यह कहानी अपने निजी और स्वतः रूप मे श्रेष्ठ सिद्ध हो जाती है। कहानी मुंबई शहर के उस मुखौटे को नोचकर अलग हटाती है, जिसे आम आदमी मुंबई को देखकर मतिभ्रम में पड़ा हुआ है कि- मुंबई मेरी जान!!! लेकिन इस चमक-दमक भरे शहर के आकर्षण और सपनों की साकारता की दुनिया के पीछे एक ऐसी दुनिया पनपी हुई है, जिसे देखकर हताशा, ऊब और कसेलापन ही हाथ लगता है। मुंबई में चोरी छिपे चल रहे अनियंत्रित देह व्यापार की हकीकत सामयिक यथार्थ को कहानी का प्लाट देती है, लेकिन इसके पीछे गरीबी मुख्य कारक बनकर उभरी है और जिसे लेखक ने बड़ी ही सौंदर्यपूर्ण शैली में उद्घाटित कर दिया है। कहानीकार भी पहले मुंबई के आकर्षण में गिरफ्त है और लगातार गिरफ्त ही रहता है, उसका भ्रम तब टूट जाता है जब वह जीवन की कटु सत्यता से टकराता है और देखता है कि शरीर, हवस, सौंदर्य और आकर्षण से भी अधिक कोई असरकारक स्वाद है, तो वह ज़हर जैसी ज़िंदगी का असर है और उस असर में एक कड़ुआपन गरीबी का घुला हुआ है।
कहानी का गठन इतना सहज और ज़ोरदार है कि कहानी पाठक के सामने बहती है और पाठक एक ही सांस में कहानी में डूबकर उसे पी लेता है, कहानी में कहीं भी व्यावधान या अनुत्तरित प्रश्न नहीं छूटते हैं। यही एक बेहतर कहाई और कहानीकार की निशानी है। कहानी में आकर्षण के साथ कौतूहल बराबर बना हुआ है, जो कहानी को चरम सीमा पर लेजाकर पाठक को अपनी संपूर्णता में अंत की तरफ ले जाता है। कहानी में जो बिम्ब खींचे गए हैं, वह लाजवाब मानने चाहिए जैसे- “कोहरा आसमान से झर रहा था। हमेशा की तरह नि:शब्द और गतिहीन”, “वह लड़की गीले अंधेरे में चारों तरफ दूधिया रोशनी की तरह चमक रही थी”, “दूर तक कई कारें एक-दूसरे से सम्मानजनक दूरी बनाए खड़ी थीं – मयखानों की शक्ल में” ऐसे बिम्ब कहानी को और भी अधिक स्पष्ट करने के साथ कहानी में नए प्रयोगों की संभावना को बड़ा देते हैं। अंतिम के बिम्ब में आस्थाना जी ने यथार्थ को ऐसी शक्ल दी है जिसे मुंबई के उस इलाके के लिए जहां कथा आकार ले रही है स्थायी बिम्ब के रूप में देखा जा सकता है। इसके अतिरिक्त भाषा का जो प्रवाह है वह अपने आप में सहज और बहुत तरलता लिए हुए है। संवादों में मुंबई की भाषा का सहज भाव और टोन का इस्तेमाल कहानी को और भी गठन प्रदान करता है, संवादों का ऐसा जोरदार प्रयोग है कि पत्रों के मूड का भी पता देता है, उनके भीतर की चिढ़, आक्रोश और एक चिंता को अभिव्यक्त कर देता है। कहानी के लिए सबसे अधिक महत्व की बात यह है कि यह पाठकों में समाज के यथार्थ को अवगत कराने के साथ एक अनाम चिंता में डालकर मन में संवेदना पैदा करने के साथ एक बेचैनी भर देती है। कहानी में मार्मिकता है जो मानवी जीवन की छुपी हुई हकीकत को उजागर करती है। औरत की गंध का सबके लिए अलग अनुभव हो सकता है और उस गंध की बसाहट भीतर कहीं चिपक सी जाती है, जिसे समय रहते आदमी महसूस भी करता है। कहानीकार एक ऐसी तीखी विषाक्त गंध साथ लिए आता है, जिससे मन में ग्लानियुक्त हवस की उबकाई आजाए।

मूल कहानी इस लिंक http://www.pratilipi.com/blog/4565453695352832 पर पढ़िये।
------------------------------------------------------------------------------------------------------


©डॉ.मोहसिन ख़ान
हिन्दी विभागाध्याक्ष एवं शोध निर्देशक
जे.एस.एम. महाविद्यालय,
अलीबाग – 402 201
(महाराष्ट्र)